पंखुरी के ब्लॉग पे आपका स्वागत है..

जिंदगी का हर दिन ईश्वर की डायरी का एक पन्ना है..तरह-तरह के रंग बिखरते हैं इसपे..कभी लाल..पीले..हरे तो कभी काले सफ़ेद...और हर रंग से बन जाती है कविता..कभी खुशियों से झिलमिलाती है कविता ..कभी उमंगो से लहलहाती है..तो कभी उदासी और खालीपन के सारे किस्से बयां कर देती है कविता.. ..हाँ कविता.--मेरे एहसास और जज्बात की कहानी..तो मेरी जिंदगी के हर रंग से रूबरू होने के लिए पढ़ लीजिये ये पंखुरी की "ओस की बूँद"

मेरी कवितायें पसंद आई तो मुझसे जुड़िये

Tuesday, 19 February 2013

अधूरा इश्क .....














एहसास इश्क का ये पूरा है ना आधा है ..

ना जाने उस शख्स से ये कैसा नाता है ..

है दिल्लगी ये इश्क या दिल की लगी यारो ...

चोट खाके भी दिल नगमे गुनगुनाता है ...

भरे पैमाने भरी आँखें पहचान आशिक की ...

बेमुर्रवत इश्क में फ़कत आंसू कमाता है....

मिला तन्हाई का साथ दिन रात का ऐसा ...

मुझको सताता है कभी मुझको मनाता है ....

ना ख़ुशी का एहसास ना बरसती कभी आँखें...

ना रोने का वादा, दिल हर पल निभाता है ...

बंजर आँखें उखड़ी सांसें है प्यार का सिला ...

मै सब कुछ भूल जाती हूँ जब उसका नाम आता है ...

----------------पारुल 'पंखुरी'

30 comments:

  1. इश्क में न रोने का वादा ... सच में बहुत तकलीफ देता है ... गम गलत नहीं हो पाता है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. ji sahi kaha aapne ..blog par aane ke liye shukriya :-)

      Delete
  2. वाह!!! प्रेम का एक और रूप
    -शिखा

    ReplyDelete
    Replies
    1. prem ke najane kitne roop rang hain shikha ..shukriya

      Delete
  3. इंसान को बे इश्क,सलीका नही आता,
    जीना तो बड़ी चीज है मरना नही आता !


    Recent Post दिन हौले-हौले ढलता है,

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह !!! kya khoob kaha aapne dheerendra ji ..bahut bahut shukriya :-)

      Delete
  4. Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया मोनिका जी :-)

      Delete
  5. एहसास इश्क का न पूरा है ना आधा है, कमाल की बात है, इश्क जो परवान न चढ़ सका लेकिन फिर भी रग रग में समाया है. बहुत अच्छे.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया नीरज :-)

      Delete
  6. superb.

    मर्ज ऐ इश्क को सबने ,गुनाह जाना ज़माने में
    अपनी नज़रों में मुहब्बत क्यों इबादत हो गयी

    देकर दुआएं आज फिर हम पर सितम बो कर गए.
    अब जिंदगी जीना , अपने लिए क़यामत हो गयी

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया मदन जी ब्लॉग पर आने और टिपण्णी के लिए : -)

      Delete
  7. वाह....लाजवाब गज़ल!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया शालिनी जी :-)

      Delete
  8. प्यार में होती है ही ऐसी कसक की चोट खाकर भी भुलाया नहीं जा सकता है इसे ...
    बहुत बढ़िया दिल से निकली दिल तक असर करती प्रस्तुति ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया कविता जी :-)

      Delete
  9. I always say.. that you write amazing all Ras with great dexterity but the emotions of love always best.
    Pyar ki kavitao ko padhte huye jo ehsas dil me sama jate hai.. aur fir halki halki si chhavi mann me ek akaar le leti hai.. to samajhiye kavita safal..:)
    aur yahi hai complement iss poem k liye..mam..:)

    ReplyDelete
    Replies
    1. thank u so much sam :-) ऐसे ही आकर मेरा हौसला बढ़ाते रहना :-)

      Delete
  10. वह इश्क ही क्या ,जो पूरा हो जाये ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अमित जी पता नही सही है या नहीं मगर मंजिल तक पहुंचना तो सभी चाहते हैं ..पूरा हो न हो वो अलग बात है ....ब्लॉग पर पुनः पधारने के लिए धन्यवाद :-)

      Delete
  11. यादों में जो बसता है
    उसका नाम जुबां से बयां कहां होता है ????

    दिलबर नजर से हो कितना भी दूर
    उसके पास होने का हमेशा अहसास होता है

    आंखों में बसा दिखता है यह पूरा जमाना
    पर ख्याल में जो बसा, वही दिल के पास होता है !!!!!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. bahut khoob vikas ..blog par aane ke liye shukriya :-)

      Delete
  12. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  13. बहुत खूबसूरत!
    आपका ब्लॉग और आपकी रचनाएँ.... बिल्कुल...ओस की बूँद के जैसे... !:-)
    ~सादर!!!

    ReplyDelete

मित्रो ....मेरी रचनाओं एवं विचारो पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दे ... सकारात्मक टिपण्णी से जहा हौसला बढ़ जाता है और अच्छा करने का ..वही नकारात्मक टिपण्णी से अपने को सुधारने के मौके मिल जाते हैं ..आपकी राय आपके विचारों का तहे दिल से मेरे ब्लॉग पर स्वागत है :-) खूब बातें कीजिये क्युकी "बात करने से ही बात बनती है "

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...