पंखुरी के ब्लॉग पे आपका स्वागत है..

जिंदगी का हर दिन ईश्वर की डायरी का एक पन्ना है..तरह-तरह के रंग बिखरते हैं इसपे..कभी लाल..पीले..हरे तो कभी काले सफ़ेद...और हर रंग से बन जाती है कविता..कभी खुशियों से झिलमिलाती है कविता ..कभी उमंगो से लहलहाती है..तो कभी उदासी और खालीपन के सारे किस्से बयां कर देती है कविता.. ..हाँ कविता.--मेरे एहसास और जज्बात की कहानी..तो मेरी जिंदगी के हर रंग से रूबरू होने के लिए पढ़ लीजिये ये पंखुरी की "ओस की बूँद"

मेरी कवितायें पसंद आई तो मुझसे जुड़िये

Sunday, 10 February 2013

सपना ...






नींदों में मेरी ...

जब खूबसूरत ..

कोई सपना आता है ...

जगा कर मुझे ...

उदासी की ओर ...

वो ले जाता है ..

एहसास होता है ...

तब तन्हाई का ...

अपनी बहुत ...

अश्को की भाषा से ...

तब, मन ...

मुझको समझाता है ...

--------------------------पारुल 'पंखुरी '

25 comments:

  1. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति पारुल | बधाई

    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया तुषार जी आप मेरे ब्लॉग पर आये अच्छा लगा आपसे बहुत कुछ सीखने को मिलेगा आगे भी आते रहिएगा :-) आभार

      Delete
    2. जहां न पहुंचे रवि वहां पहुंचे कवि महा 'राज'.....

      Delete
  2. खूबसूरत सपने से उदासी का सफर ... अश्कों की भाषा का गहरा एहसास ... दोनों ही जरूरी हैं जीवन में ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिगंबर जी शुक्रिया आपकी टिपण्णी के लिए ..बिलकुल सही कहा आपने ..जीवन के लिए सुख दुःख दोनों ही जरुरी हैं ...

      Delete
  3. मैंने जैसी पृष्ठभूमि की कल्पना की थी. बिलकुल वैसा ही पाया... फूलों पर ओस की बूँदें...वाह पारुल...वाह...

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया नागार्जुन ...आपने बहुत देर की आने में :-)

      Delete
  4. शब्दों के साथ पूर्ण विराम, अर्ध विराम, कौमा और अन्य चिह्नों का भी उचित प्रयोग करो पंखुरी...बहुत ख़ुशी हो रही है तुम्हे ब्लॉग पर देख कर.

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी बिलकुल आगे से ध्यान रखूंगी ...

      Delete
  5. बहुत सुन्दर.. तुम इतने अच्छे चित्र कहाँ से लगाती हो , बड़े प्रासंगिक लगते है.

    ReplyDelete
  6. आपका बहुत बहुत स्वागत है |
    आपके इस पोस्ट की चर्चा बुधवार के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आपका :-)

      Delete
  7. Replies
    1. बहुत सारा शुक्रिया :-)

      Delete
  8. सुन्दर अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया शालिनी जी :-)

      Delete
  9. वाह ...खूबसूरत ख़याल ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया अखिल जी :-)

      Delete
  10. Replies
    1. धन्यवाद आपका कालिपद जी :-)

      Delete
  11. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  12. behad khubsurat magar kucch adhura sa laga........

    ReplyDelete
    Replies
    1. Dear savi thank u :-) haan adhura sa hai sab kuch ..read ths one may b u undrstand after that :-)
      http://parulpankhuri.blogspot.in/2012/10/blog-post_8476.html

      Delete

मित्रो ....मेरी रचनाओं एवं विचारो पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दे ... सकारात्मक टिपण्णी से जहा हौसला बढ़ जाता है और अच्छा करने का ..वही नकारात्मक टिपण्णी से अपने को सुधारने के मौके मिल जाते हैं ..आपकी राय आपके विचारों का तहे दिल से मेरे ब्लॉग पर स्वागत है :-) खूब बातें कीजिये क्युकी "बात करने से ही बात बनती है "

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...