पंखुरी के ब्लॉग पे आपका स्वागत है..

जिंदगी का हर दिन ईश्वर की डायरी का एक पन्ना है..तरह-तरह के रंग बिखरते हैं इसपे..कभी लाल..पीले..हरे तो कभी काले सफ़ेद...और हर रंग से बन जाती है कविता..कभी खुशियों से झिलमिलाती है कविता ..कभी उमंगो से लहलहाती है..तो कभी उदासी और खालीपन के सारे किस्से बयां कर देती है कविता.. ..हाँ कविता.--मेरे एहसास और जज्बात की कहानी..तो मेरी जिंदगी के हर रंग से रूबरू होने के लिए पढ़ लीजिये ये पंखुरी की "ओस की बूँद"

मेरी कवितायें पसंद आई तो मुझसे जुड़िये

Friday, 8 February 2013

तन्हाई ....





कोई कितना भी साथ रहे एक न एक दिन चला ही जाता है ..तब फिर से ना चाहते हुए भी तन्हाई अपनी बाहों में घेर लेती है...पहले पहल गुस्सा आता था चिढ होती थी मगर अब तन्हाई सहेली बन गई है ...इसलिए अक्सर लोगो से कह देती हू ...

अकेला छोड़ दो मुझको ..
के तन्हाई रास आ गई है ...
रोशन महफिले हो या ..
सूनी रात का सन्नाटा ..
बना के बाहों का घेरा ..
वो आसपास आ गई है ...
कभी अश्को से खेलती ..
कभी निंदिया को ढूंढ़ती ..
वो बन के मेरी हमसफ़र ..
मेरे एहसास पा गई है ...
जाती नहीं कभी कहीं ..
वो मुझको छोड़कर ...
बन के मेरी परछाई ....
वो मेरे साथ आ गई है ....
सिसकियों को बांधती ..
कभी मुझको संभालती ...
धीरे -धीरे तन्हाई अब ..
मेरे भी मन को भा गई है ..
अकेला छोड़ दो मुझको ..
के तन्हाई रास आ गई है ...
-----------पारुल'पंखुरी'

33 comments:

  1. bahut sundar di.. :) sweetly written

    ReplyDelete
    Replies
    1. thank u gaurav :-) blog ke udghaatan ke baad meri likhi ye pehli kavita hai jispe pehle comment tumne kiya hai ..ab to krishna ko bhi sir pe hath rakhna hi hoga ..:-)

      Delete
  2. aapki is kavita se bhi mujhey ek mukesh ji ka geet yaad aa raha hai "mujhko is raat ki tanhaai me awaaj na do ..awaj na do........" film "dil bhi tera ham bhi terey "
    aapki kavita me jis tarah se "tanhai" ko sunder saheli jaisaa bana liyaa hai ,aur ussey apney ko jodaa hai ,bahut sunder ..."TANHAI" KO BHI AAPNEY KHUBSURAT JAAMAA PEHNAA DIYAA HAI .EXCELLENT .

    ReplyDelete
    Replies
    1. aapke itne sundar comment ke liye bahut bahut shukriya chander ji :-)

      Delete
  3. कितना सुन्दर इत्तेफाक(शायद) है , आज जगजीत जी का जन्मदिन है और आपकी इतनी सुन्दर कविता पर उनकी ही एक गजल याद आती है -
    "मैं और मेरी तन्हाई |"
    या फिर आप गुलज़ार का उदाहरण लें -
    "मैं और मेरी तन्हाई अक्सर ये बातें करते हैं |"
    अक्सर हमने कवियों को तन्हाई को प्रतीकात्मक इंसानी रूप देते सुना/पढ़ा है , ये कविता भी इसी श्रृंखला की एक सुन्दर कड़ी है | मेरे विचार से इसका असली अर्थ निकलता है कि अमुक इंसान ने खुद में ही खुश रहना सीख लिया है | जब हमें खुश रहने के लिए और किसी की जरूरत नहीं रहती तब हमें तन्हाई भी पसंद आने लगती है |
    "मेरी तन्हाई मुझे कभी तन्हा नहीं रहने देती |"
    .
    @!</\$}{

    ReplyDelete
    Replies
    1. aakash itne detaled comment ke liye shukriya :-)

      Delete
  4. waah bahut sundar likha hai..actually bahut dil se likha hai....lvd it dear

    ReplyDelete
  5. पारुल जी .मेरा तजुर्बा कहता है ....
    रुसवाई किसी का होने नही देती
    तन्हाई चैन से सोने नही देती....
    अशोक'अकेला'

    मेरी अगली पोस्ट होगी
    'अकेला' का अकेलापन ....कब ???
    स्वस्थ रहें!

    ReplyDelete
    Replies
    1. Dear sir aapki rachna ka intjar rahega :-)
      saadar

      Delete
  6. कोमल अहसास व्यक्त करती भावपूर्ण रचना..
    दुआ है कभी तन्हाई का सामना ना हो...
    शुभकामनाएँ...
    :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. aapki dua aur comment dono ke liye shukriya reena :-)

      Delete
  7. zindagi aksar mukkammal tanhai ki talaash karti hai. shaayad dunia ki bheed se bachne k liye, shaayad khoye hue khud ko fir se pa lene k liye.......
    nice one...........

    ReplyDelete
  8. नहीं.पारुल मुझे यह कविता कम और चालाकी ज्यादा लगती है. तुम्हारी रचनाओं में एक मासूमियत होती है जो यहाँ नदारद है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Dear raju ...kavita ke sath maine koi chalaki nahi ki ..haan chalaki hai to bs itni ki tanhai saheli ban gai aisa kh ke khud ko hi dhoka diya ...lekin ho sakta hai meri doosri rachna ke saamne ye kuch kam jachi ho tumhe ..comment ke liye shukriya :-)

      Delete
  9. Acchi koshish hai parul ji......

    ReplyDelete
    Replies
    1. shukriya sharad ... koshish karne walo ki haar nahi hoti ...

      Delete
  10. सुन्दर अहसासों को सहलाती, प्यारी पंक्तियाँ ...रोशन महफिले हो या ..
    सूनी रात का सन्नाटा ..
    बना के बाहों का घेरा ..
    वो आसपास आ गई है . बहुत अच्छे.

    ReplyDelete
    Replies
    1. hausla afjai ke liye शुक्रिया नीरज :-)

      Delete
  11. तन्हाई रास आ जाए तो जीवन आसान हो जाता है ...
    सब के साथ तो ऐसे भी समय बीत ही जाता है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी बिलकुल सही कहा आपने मगर मुश्किल यही है की तन्हाई रास बहुत मुश्किल से आती है ....
      --सादर

      Delete
  12. जिन्हें स्वयं से प्यार होता है ,वे ही दूसरों से प्यार कर सकते हैं । खुद का अकेलेपन का एहसास करने वाला ही दूसरों का खालीपन समझ सकता है । सुन्दर एवं मर्मपूर्ण प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया अमित जी आज आपकी रचना जीमेल पढ़ी बहुत रोचक लगी ..आप मेरे ब्लॉग पर आये मुझे बहुत ख़ुशी हो रही है ...हौसला बढ़ने के लिए शुक्रिया :-)

      Delete
  13. अकेला छोड़ दो मुझको ..
    के तन्हाई रास आ गई

    बहुत खूब !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया सतीश जी :-)

      Delete
  14. वाह ! बेहद खूबसूरती से कोमल भावनाओं को संजोया इस प्रस्तुति में आपने ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया संजय जी ..ब्लॉग पर आने और इतना सुन्दर कमेंट करने के लिए भी :-) उम्मीद है आगे भी आप ब्लॉग पर आते रहेंगे और मेरी रचनाओ के विषय में मुझे बताएँगे :-)

      Delete
  15. आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ। आपकी रचनाओं ने खासा प्रभावित किया है। आपकी भाषा दिल से निकली हुई सच्ची और पवित्र भाषा है ...बहुत बहुत बधाई सभी अनुपम रचनाओं के लिए।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत आभार अखिल जी मेरी रचनाओं के विषय में आपने जो कहा उससे मई भी प्रभावित हो गई ...उम्मीद है आगे भी मेरी रचनाओं को आपका प्यार मिलता रहेगा .....

      Delete

मित्रो ....मेरी रचनाओं एवं विचारो पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दे ... सकारात्मक टिपण्णी से जहा हौसला बढ़ जाता है और अच्छा करने का ..वही नकारात्मक टिपण्णी से अपने को सुधारने के मौके मिल जाते हैं ..आपकी राय आपके विचारों का तहे दिल से मेरे ब्लॉग पर स्वागत है :-) खूब बातें कीजिये क्युकी "बात करने से ही बात बनती है "

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...