पंखुरी के ब्लॉग पे आपका स्वागत है..

जिंदगी का हर दिन ईश्वर की डायरी का एक पन्ना है..तरह-तरह के रंग बिखरते हैं इसपे..कभी लाल..पीले..हरे तो कभी काले सफ़ेद...और हर रंग से बन जाती है कविता..कभी खुशियों से झिलमिलाती है कविता ..कभी उमंगो से लहलहाती है..तो कभी उदासी और खालीपन के सारे किस्से बयां कर देती है कविता.. ..हाँ कविता.--मेरे एहसास और जज्बात की कहानी..तो मेरी जिंदगी के हर रंग से रूबरू होने के लिए पढ़ लीजिये ये पंखुरी की "ओस की बूँद"

मेरी कवितायें पसंद आई तो मुझसे जुड़िये

Friday, 15 February 2013

ख्याल ...


दोस्तों ....आज मै अपनी लिखी कविता 'ख्याल ' का विडियो आप सब के समक्ष प्रस्तुत कर रही हु ..इस में  मैंने कविता को अपनी आवाज और अपने पसंद के चित्रों से सजाया है ...आप सब इस पर प्रतिक्रिया अवश्य दे इससे मुझे और अच्छा करने का हौसला मिलेगा ....धन्यवाद




फिर वो ही सौंधी खुशबु
वो ही मीठा मीठा सा दर्द
वो ही दिन वो ही महीना
गुनगुनी सी धूप ..और रातें सर्द
कौन रंगों से आज आसमान सजा गया
प्यार का रंग चारो और छा  गया
आज फिर उसका ख्याल आ गया
हलकी लाल  आँखों से उसका
वो कनखियों से देखना
चुप रहके मुस्कुराना
बिन कहे ही सब समझना
कभी कुछ कहा नहीं उसने
जाने कैसे दिल उसकी गिरफ्त में आ गया
सादगी उसकी ..भोलापन .. दिल को भा गया
आज फिर उसका  ख्याल आ गया
ना उसने कुछ कहा कभी
न मै  कह  पाई
जानता वो भी था ..समझती मै  भी थी
फिर भी होंठो तक कभी ये बात नहीं आई
आज तक जो नहीं कहा वो आज मै   कहना चाहती हूँ
ऐ महकी हवाओ  ...
मेरा ये संदेसा उन तक पंहुचा देना
और कहना उनसे
मुझे उनसे
मोहब्बत है ...
मोहब्बत है ...
मोहब्बत है ....
----------------पारुल'पंखुरी'



36 comments:

  1. पारुल ...बहुत सुंदर और कोमल एहसासों वाली कविता ....उस पर प्रस्तुतिकरण ...लाजवाब ....विडिओ में जो भी दृश्य हैं ...सभी बहुत मनभावन हैं और कविता की कोमलता को दुलारते हैं .........बहुत-बहुत बधाई
    - शिखा

    ReplyDelete
    Replies
    1. शिखा बहुत बहुत आभार :-)

      Delete
  2. lovely poem parul ji... :)bahut sundar

    ReplyDelete
    Replies
    1. गौरव बहुत बहुत धन्यवाद :-)

      Delete
  3. पारुल : ओसबिंदु की आवाज़ होगी तो शायद एसी होगी....!! फूलों के पास शब्द होंगे तो शायद ऐसे होंगे....!! तितली के रंगों का अगर कोई भाव होगा तो कुछ ऐसा होगा...!! हवा की लहर कभी डाकिया बनी होगी तो यही मौका रहा होगा....!! समय कभी दम भरता होगा तो वो यही अवकाश होगा...!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. waah kya khoob kha aapne...sach me padhkar bhut achha lga..humein to sahi se appreciate krna bhi nhi aata...

      Delete
    2. राजू तुम्हारा कमेंट ही मै 20 बार पढ़ चुकी हु अब तो ये भी याद नहीं कविता क्या थी मेरी ...बहुत ही सुन्दर शब्दों में मेरी तारीफ कर दी बहुत बहुत शुक्रिया :-)

      Delete
  4. जज्बातों की चासनी में सनी मीठी गोली सी कविता, हवा में पंख लगा कर उड़ने की अनुभूति देती हुई. जैसे किसी के गोद में सर रखा हो और कोई धीमे धीमे मेरे बालों को सहला रहा हो, और उसपर आपकी आवाज उफ़ क्या कहूँ, आनंददायक, अप्रतिम, अदभुत.. ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत अभूत शुक्रिया नीरज इतनी सुन्दर तो कविता भी नहीं मेरी जितने सुन्दर शब्दों में तुमने तारीफ कर दी :-)

      Delete
  5. खूबसूरत जज्बातो से सजी सुंदर कविता, खूबसूरत आवाज में सुंदर प्रस्तुतिकरन के साथ | बहुत खूब पारुल जी | आपका यह अंदाज भी बढ़िया रहा |

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रदीप जी ब्लॉग पर आने और मेरे प्रयासों को सराहने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद :-)

      Delete
  6. अच्छी लगी ....शब्द और आवाज़ दोनों हृदयस्पर्शी....

    ReplyDelete
    Replies
    1. मोनिका जी हौसला अफजाई के लिए बहुत बहुत शुक्रिया :-) चैतन्य ने भी सुनी क नहीं ये कविता मुझे उसका रिएक्शन भी chaiye :-)

      Delete
  7. Aaj Fir Uska Khyaal Aa Gaya ,
    Na Usne Kuch Kaha Kabhi,
    Na Mai Kah Payi,
    Janta Wo Bhi Tha,
    Samajhti Mai Bhi Thi,
    Fir Bhi Hothon Tak Ye ….
    Baat Nahi Aayi….
    Aaj Tak Jo Nahi Kaha ….
    Wo Aaj Mai Tumse Kahna Chahti Hun....

    Mera Question Wo Tha Kaun ?

    ReplyDelete
  8. बहुत मीठी आवाज़ सुंदर पंक्तियाँ ....
    मुझे जो ख्याल आया वो लिख रहा हूँ....

    वही सौंधी खुशबू ,
    वही मीठा दर्द,
    वही दिन वही महीना,
    गुनगुनाती धूप और रातें सर्द,
    क्यू फिर आज रंगों से कोई
    आसमान सजा गया,
    प्यार का रंग जो चारो तरफ
    छा गया,
    हल्की लाल आँखों से उसका
    कनखियों से देखना
    चुप रहके मुसकुराना,
    बिन कहे सब समझना,
    कभी कुछ कहा नहीं उसने ,
    फिर कैसे दिल उसकी
    गिरफ्त मे आ गया,
    सादगी उसका भोलापन
    दिल को क्यू भा गया,
    ना उसने कुछ कहा कभी
    न तुम कह पाये,
    जानता वो भी था
    समझते तुम भी थे,
    फिर क्यू होठों तक कभी
    बात नहीं आई,
    आज तक जो नहीं कहा
    वो क्यू कहा,
    महकती हवाओं ये संदेशा
    उन तक जरूर ले जाना,
    मगर थोड़ा रुकना मिल जाने देना
    मुझे मेरे सवाल का जवाब
    जो जेहन मे मेरे आ गया
    पुंछता हूँ मै फिर आज
    तुम्हें उसका क्यू
    ख्याल आ गया ....
    दो इन सवालों का जवाब ,??
    फिर संदेशा उन तक
    जरूर पहुंचेगा
    तुम्हें उनसे मोहब्बत है ....:P :P

    tell tell ??

    ReplyDelete
  9. पारुल................
    जानता है वो भी, कि तुम्हें
    मोहब्बत है
    मोहब्बत है
    मोहब्बत है....
    ऐसी दीवानगी मोहब्बत के सिवा कहीं होती है भला :-)
    keep your heart brimming with love...
    great post!!
    <3
    loved it.
    anu

    ReplyDelete
  10. खूबसूरत ख्याल , खुशबू से लबरेज़ ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया अमित जी :-)

      Delete
  11. "Khayal" - khayalo ko bunana to har koi kar sakta hai lekin unhe prem ke satrangi rango me bhigo kar shabdo ka murt roop dekar aur apni awaj ko prem ke jazbaato me dubo kar khayal ko ek naya ayam diya. subhanallah !!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. Dear anonymous ..itne sundar comment ke liye shukriya ..lekin agar aap apna naam bhi likhte to aur achha lagta :-)

      Delete
  12. खूबसूरत आवाज और आपका यह अंदाज | बहुत खूब,,, पारुल जी बधाई |

    Recent Post दिन हौले-हौआपका यह अंदाजले ढलता है,

    ReplyDelete
  13. पारुल .....जी !
    कोमल एहसास से भरी रचना .दिल की आवाज़ से बयाँ .अहसास महसूस कराते
    चित्रों से सज़ी....सब कुछ दिल से ....मुबारक हो |

    cataract operation करवाया है ..इसलिए मजबूर हूँ
    बस इसी लिए अपने लेपटाप से दूर हूँ ...बस एक-आध दिन और |

    ReplyDelete
    Replies
    1. aapka bahut bahut shukriya ashok ji aur plz aap mujhe bs parul kahiye :-)

      Delete
  14. हुई शाम उनका ख़याल आ गया
    वही ज़िंदगी का सवाल आ गया

    अभी तक तो होंठों पे था
    तबस्सुम का एक सिलसिला
    बहुत शादमाँ थे हम उनको भूला कर
    अचानक ये क्या हो गया
    के चहरे पे रंग-ए-मलाल आ गया
    हुई शाम उनका...

    हमें तो यही था ग़ुरूर
    ग़म-ए-यार है हमसे दूर
    वही ग़म जिसे हमने किस-किस जतन से
    निकाला था इस दिल से दूर
    वो चलकर क़यामत की चाल आ गया
    हुई शाम उनका...

    अब क्या कहें | सुभानाल्लाह जिस मिठास के साथ आपने कविता लिखी है उसी मिठास के साथ पेश भी की ... हम तो लाजवाब हो गए हैं शब्द सभी खो गए हैं | बधाई |

    ReplyDelete
    Replies
    1. aap to hai hi laajawab tushar :-) aur ye gana wakai bahut khoobsurat hai ...blog par aane ke liye shukriya :-)

      Delete
  15. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति ...आपको बधाई ।

    http://theparulsworld.blogspot.in/

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया पारुल :-)

      Delete

मित्रो ....मेरी रचनाओं एवं विचारो पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दे ... सकारात्मक टिपण्णी से जहा हौसला बढ़ जाता है और अच्छा करने का ..वही नकारात्मक टिपण्णी से अपने को सुधारने के मौके मिल जाते हैं ..आपकी राय आपके विचारों का तहे दिल से मेरे ब्लॉग पर स्वागत है :-) खूब बातें कीजिये क्युकी "बात करने से ही बात बनती है "

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...