पंखुरी के ब्लॉग पे आपका स्वागत है..

जिंदगी का हर दिन ईश्वर की डायरी का एक पन्ना है..तरह-तरह के रंग बिखरते हैं इसपे..कभी लाल..पीले..हरे तो कभी काले सफ़ेद...और हर रंग से बन जाती है कविता..कभी खुशियों से झिलमिलाती है कविता ..कभी उमंगो से लहलहाती है..तो कभी उदासी और खालीपन के सारे किस्से बयां कर देती है कविता.. ..हाँ कविता.--मेरे एहसास और जज्बात की कहानी..तो मेरी जिंदगी के हर रंग से रूबरू होने के लिए पढ़ लीजिये ये पंखुरी की "ओस की बूँद"

मेरी कवितायें पसंद आई तो मुझसे जुड़िये

Thursday, 21 March 2013

सिलवटें ....










उलझी लट मोरी बारिश में ,
एक सिलवट रस्ते पे पड़ गई...
मोड़ पे वो टकराया मुझसे ,
एक सिलवट चेहरे पे पड़ गई...
नजरो से जब छुआ था उसने ,
एक सिलवट पलकों पे पड़ गई...
हाथ बढ़ाकर कलाई मरोरी ,
एक सिलवट चुनरी में पड़ गई...
हौले से उड़ाई जब उलझी लट ,
एक सिलवट साँसों पे पड़ गई ..
फूलो से किया प्यार इजहार,
एक सिलवट बातो पे पड़ गई..
बजी शेहनाई हुई बिदाई ,
एक सिलवट नातो पे पड़ गई...
मिलन का मौसम महका बदन,
एक सिलवट चादर पे पड़ गई ...
-------------------------------------पारुल'पंखुरी'

14 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति,आभार.

    ReplyDelete
  2. वाह !!! बहुत लाजबाब प्रस्तुति,,,पारुल जी

    क्यों छेड़ते हो जिक्र मिलने की रात का
    पूछेगें हम सबब तो बताया न जाएगा !


    RecentPOST: रंगों के दोहे ,

    ReplyDelete
  3. बहुत ही बेहतरीन प्रस्तुति,कृपया पहली लाइन समानांतर कर लीजिए.

    "स्वस्थ जीवन पर-त्वचा की देखभाल"

    ReplyDelete
  4. लिखी जो यह सुन्दर रचना,
    एक सिलवट एहसासों पे पड़ गई...
    महके जो एहसास कलम से,
    एक सिलवट कागज़ पे पड़ गई...
    भेजे जो कागज़ ख़त में,
    एक सिलवट होटों पे पड़ गई...
    मुस्कान जो होटों पर आई
    एक सिलवट दिल पे पड़ गई...
    पर दिल जो मिल न पाए,
    एक सिलवट जीवन पे पड़ गई...

    सच कहें तो सिलवटें बहुत कुछ कह रही हैं | सुन्दर रचना | आभार |

    ReplyDelete
  5. बस रब ने मिलाये मेल सब
    जिन्दगी सिलवटों का है खेल सब....
    खुबसूरत एहसास !मुबारक हो !
    शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन


    सादर

    ReplyDelete
  7. उत्कृष्ट उत्कृष्ट उत्कृष्ट ।
    बहुत खूबसूरत एहसास ।

    ReplyDelete
  8. खूब....बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर ....
    न छुआ, न नजर मिली,
    एक सिलवट अहसासों पे पड़ गयी,
    सुनी जो उनकी बात
    एक सिलवट साँसों पे पड़ गयी
    ये कैसा असर है जालिम की अदाओं का
    एक सिलवट जिंदगी पे पड़ गयी

    ReplyDelete
  10. aap sabhi padhne walo ka bahut bahut shukriya :-)

    ReplyDelete
  11. bahut pyari pyari rachna........ baat shuruaat se aakhiri tak salvaton ki aad me jo batayi hai aapne...sensitising one!

    ReplyDelete
  12. क्या रोमांस है ...भई वाह :)

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर रचना...
    सुन्दर चित्रण मिलन से प्रेम तक का सफ़र
    लाजवाब....
    :-)

    ReplyDelete

मित्रो ....मेरी रचनाओं एवं विचारो पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दे ... सकारात्मक टिपण्णी से जहा हौसला बढ़ जाता है और अच्छा करने का ..वही नकारात्मक टिपण्णी से अपने को सुधारने के मौके मिल जाते हैं ..आपकी राय आपके विचारों का तहे दिल से मेरे ब्लॉग पर स्वागत है :-) खूब बातें कीजिये क्युकी "बात करने से ही बात बनती है "

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...