पंखुरी के ब्लॉग पे आपका स्वागत है..

जिंदगी का हर दिन ईश्वर की डायरी का एक पन्ना है..तरह-तरह के रंग बिखरते हैं इसपे..कभी लाल..पीले..हरे तो कभी काले सफ़ेद...और हर रंग से बन जाती है कविता..कभी खुशियों से झिलमिलाती है कविता ..कभी उमंगो से लहलहाती है..तो कभी उदासी और खालीपन के सारे किस्से बयां कर देती है कविता.. ..हाँ कविता.--मेरे एहसास और जज्बात की कहानी..तो मेरी जिंदगी के हर रंग से रूबरू होने के लिए पढ़ लीजिये ये पंखुरी की "ओस की बूँद"

मेरी कवितायें पसंद आई तो मुझसे जुड़िये

Thursday, 29 August 2013

बस एक ख़त..













 बस एक ख़त लिख दो ..
 प्रेम की कोई बात हो कह लो
 चाँद से रोशनी उधार ले लो
 फूलो से खुशबू तुम ले लो 
 टहनी की एक कलम बना लो
 बस एक ख़त लिख दो

 "क्या चाँद की चांदनी में
 मै तुमको दिखाई देती हूँ .. 
 क्या पानी की कल कल में मै
 तुमको सुनाई देती हूँ 
 क्या इन्द्रधनुष के रंगों में मै 
 झूमती नाचती लगती हूँ
 क्या नीले ऊंचे आसमा में 
 उडती दिखाई देती हूँ ??
 ये सारी बातें हमसे कह दो
 कुछ अपने सपने तुम लिख दो

 कुछ और नहीं कर सकते तो
 कोरा सा एक कागज़ ले लो 
 लेकर अपने हाथो में, उसपे
 प्यार भरा एक चुम्बन रख दो
 देकर स्नेह स्पर्श ख़त को 
 अक्स अपना उसमे तुम भर दो

 वो ख़त नहीं एक तोहफा होगा 
 अनमोल और अनोखा होग
 देकर अपना वो स्नेह स्पर्श 
 मुझको थोडा और जिला दो
 बस एक  ख़त लिख दो 
 हाँ एक ख़त लिख दो
------------------------पारुल 'पंखुरी'

15 comments:

  1. आह ! बहुत ही कोमल रचना है ...वेदना की लकीरों में बसी

    ReplyDelete
  2. बहुत हुआ...अब जलाओ मत..
    मुझको थोडा और जिला दो...

    सुन्दर एहसास हैं पारुल..
    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete

  3. पंखुड़ी जी, बहुत कोमल भावनायों को सहेजा आपने
    latest postएक बार फिर आ जाओ कृष्ण।

    ReplyDelete
  4. वो गाना याद आ गया : लिखे जो ख़त तुझे वो फूल बन गए ....।

    ReplyDelete
  5. behad pyari abhivyakti mam..:)

    ReplyDelete
  6. बहुत ही कोमल भावभिव्यक्ति .. बहुत मधुर अहसासों के इर्द गिर्द दर्द के ताने बाने में रची सुन्दर रचना के लिए हार्दिक बधाई .

    ReplyDelete
  7. बहुत ही खूबसूरत

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .. आपकी इस रचना के लिंक की प्रविष्टी सोमवार (02.09.2013) को ब्लॉग प्रसारण पर की जाएगी, ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें .

    ReplyDelete
  9. बहुत नाजुक ख्याल सजाए हैं इस रचना में
    आशा

    ReplyDelete
  10. बहुत नाजुक ख्याल सजाए हैं इस रचना में
    आशा

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर एहसास

    ReplyDelete
  12. सुन्दर अभिव्यक्ति .खुबसूरत रचना ,कभी यहाँ भी पधारें।
    सादर मदन
    http://saxenamadanmohan1969.blogspot.in/
    http://saxenamadanmohan.blogspot.in/

    ReplyDelete
  13. बहुत खूब ... सब जगह तुम ही तुम दिखाई देती हो ... काश इतनी से बात कह दो ... सुन्दर कोमल भाव लिए है रचना ...

    ReplyDelete

मित्रो ....मेरी रचनाओं एवं विचारो पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दे ... सकारात्मक टिपण्णी से जहा हौसला बढ़ जाता है और अच्छा करने का ..वही नकारात्मक टिपण्णी से अपने को सुधारने के मौके मिल जाते हैं ..आपकी राय आपके विचारों का तहे दिल से मेरे ब्लॉग पर स्वागत है :-) खूब बातें कीजिये क्युकी "बात करने से ही बात बनती है "

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...