पंखुरी के ब्लॉग पे आपका स्वागत है..

जिंदगी का हर दिन ईश्वर की डायरी का एक पन्ना है..तरह-तरह के रंग बिखरते हैं इसपे..कभी लाल..पीले..हरे तो कभी काले सफ़ेद...और हर रंग से बन जाती है कविता..कभी खुशियों से झिलमिलाती है कविता ..कभी उमंगो से लहलहाती है..तो कभी उदासी और खालीपन के सारे किस्से बयां कर देती है कविता.. ..हाँ कविता.--मेरे एहसास और जज्बात की कहानी..तो मेरी जिंदगी के हर रंग से रूबरू होने के लिए पढ़ लीजिये ये पंखुरी की "ओस की बूँद"

मेरी कवितायें पसंद आई तो मुझसे जुड़िये

Tuesday, 14 October 2014

ख्वाबों के गुलशन




ख्वाबों के फूलों से
सजाये गए गुलशन
महका करते हैं
रातों को
होते हैं खूबसूरत
जन्नत की तरह
रंगीले चमकीले
सपनीले
खिलते हैं
तारों की छाँव में
मगर...
ऐसी जिंदगी
की सुबह की सूरत
अक्सर
काली हुआ करती है
अँधेरे से भी काली


----------------पारुल’पंखुरी’


चित्र -- साभार गूगल (aoao2.deviantart.com)

8 comments:

  1. ek alag hi rang liye hoti hain aapki rachnayen..!!bahut sudhi vichar..!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. akhil ji mere blog par aane aur apne vichar rakhne ke liye aapki dil se aabhari hun shukriya :-)

      Delete
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवार के - चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  3. निराशा और उदासी के बिखरे स्वर जब कविता बन जाएँ !

    ReplyDelete
  4. हिम्मत रखनी चाहिए ऐसे टूटते ख़्वाबों के बीच ... निराशा और भी निराश करती है ...

    ReplyDelete
  5. सबकी मन की बात...
    कोमल भावपूर्ण रचना....

    ReplyDelete

मित्रो ....मेरी रचनाओं एवं विचारो पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दे ... सकारात्मक टिपण्णी से जहा हौसला बढ़ जाता है और अच्छा करने का ..वही नकारात्मक टिपण्णी से अपने को सुधारने के मौके मिल जाते हैं ..आपकी राय आपके विचारों का तहे दिल से मेरे ब्लॉग पर स्वागत है :-) खूब बातें कीजिये क्युकी "बात करने से ही बात बनती है "

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...