पंखुरी के ब्लॉग पे आपका स्वागत है..

जिंदगी का हर दिन ईश्वर की डायरी का एक पन्ना है..तरह-तरह के रंग बिखरते हैं इसपे..कभी लाल..पीले..हरे तो कभी काले सफ़ेद...और हर रंग से बन जाती है कविता..कभी खुशियों से झिलमिलाती है कविता ..कभी उमंगो से लहलहाती है..तो कभी उदासी और खालीपन के सारे किस्से बयां कर देती है कविता.. ..हाँ कविता.--मेरे एहसास और जज्बात की कहानी..तो मेरी जिंदगी के हर रंग से रूबरू होने के लिए पढ़ लीजिये ये पंखुरी की "ओस की बूँद"

मेरी कवितायें पसंद आई तो मुझसे जुड़िये

Tuesday, 7 October 2014

कांच के टुकड़े















कौन है अपना

यहाँ सब हैं पराये

हर शख्स मिला

चेहरे पे चेहरा लगाए

आगे भलाई का तिरंगा

पीछे बुराई का पुलिंदा

आगे प्यार की बौछार

पीछे खंजर से वार

ऐसे झूठ से

जब पर्दा उठता

चुभता दर्द का काँटा

दिल में हर बार

वही जख्म फिर

हरा हो जाता

मिलता उसी जगह

जब खंजर से वार

इंसानों की इस भीड़ में

मै अदना सी इंसां

मेरा दिल बस

प्यार ही तो चाहता है

क्यों बार -बार

शतरंजी चालो से

शीशे की तरह..दिल

मेरा बिखर जाता है

आज सोचा इन शीशे के

टुकडो को समेट दू

इन कांच के टुकडो को

कविता में सहेज लूँ

कविता में सहेज लूँ
---------------------------------------पारुल'पंखुरी'

13 comments:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवार के - चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर , संवेदनशील प्रस्तुति. कई बार हम चीजों को जैसा देखते हैं , वैसा होता नहीं है . परिस्थितियां कई बार सत्य को आवरण में ऐसे आच्छादित कर लेती है कि सत्य और असत्य का भेद स्थापित करना सर्वथा मुश्किल हो जाता है. लेकिन समय अंततोगत्वा तिमिर को तिरोहित कर ही देता है और तब जब सत्य चमकता हुआ अवतरित होता है तो सारे आवरण अपने आप छट जाता है .
    अपने दिल की भावनाओं को बहुत ही सुन्दरता से शब्दों में गढ़ कर कविता रुपी अम्बर मे जलते बुझते सितारों की तरह टांक दिया है ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. bahut hi sundar comment karte/karti hain aap par aap agyat ki tarah comment kyu kar rahe hain kya mai aapka naam jaan sakti hun?

      Delete
    2. महत्वपूर्ण क्या है कि आपको बात अच्छी लगी. नाम में क्या रखा है नाम बस अज्ञात ही समझ लीजिये .
      खुश्बू, पानी, बदली , शबा इनकी अपनी पहचान कहाँ होती है . :)

      Delete
    3. khushbu paani badli hawa ki pehchaan bhi hoti hai aur naam bhi aap apna naam batayenge to mujhe achha lagega ..waise bhi jiske shabd itne sundar hai wo khud kaisa /kaisi hogi ye jaanne ki badi utsukta hai mujhe !!

      Delete
  3. कोई न कोई
    कहीं न कही अपना होता है
    शीशे की चुभन उसे भी लहूलुहान करती है
    हाँ - शिद्दत से चाहो तो नज़र आता है

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर भावनात्मक प्रस्तुति .............

    ReplyDelete
  5. aap sabhi ka bahut bahut shukriya :-)

    ReplyDelete
  6. बढ़िया अभिव्यक्ति है , मंगलकामनाएं कलम को !!

    ReplyDelete
  7. इन कांच के टुकड़ों को फैंकना ही बेहतर है ... काविता में शब्दों में ढल कर भी चुभते रहेंगे ...

    ReplyDelete

मित्रो ....मेरी रचनाओं एवं विचारो पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दे ... सकारात्मक टिपण्णी से जहा हौसला बढ़ जाता है और अच्छा करने का ..वही नकारात्मक टिपण्णी से अपने को सुधारने के मौके मिल जाते हैं ..आपकी राय आपके विचारों का तहे दिल से मेरे ब्लॉग पर स्वागत है :-) खूब बातें कीजिये क्युकी "बात करने से ही बात बनती है "

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...