पंखुरी के ब्लॉग पे आपका स्वागत है..

जिंदगी का हर दिन ईश्वर की डायरी का एक पन्ना है..तरह-तरह के रंग बिखरते हैं इसपे..कभी लाल..पीले..हरे तो कभी काले सफ़ेद...और हर रंग से बन जाती है कविता..कभी खुशियों से झिलमिलाती है कविता ..कभी उमंगो से लहलहाती है..तो कभी उदासी और खालीपन के सारे किस्से बयां कर देती है कविता.. ..हाँ कविता.--मेरे एहसास और जज्बात की कहानी..तो मेरी जिंदगी के हर रंग से रूबरू होने के लिए पढ़ लीजिये ये पंखुरी की "ओस की बूँद"

मेरी कवितायें पसंद आई तो मुझसे जुड़िये

Thursday, 26 September 2013

कजरारी...















जीवन-पथ, कांटो का आँचल
यहाँ सपने ही बस सुहाने लगे
पीड़ा तन की तो देती है दिखाई
मन की पीड़ा समझने में ज़माने लगे
शुष्क बनने की निरी कोशिश हुई
नमकीन स्वादों से हम घबराने लगे
अंधेरों से ऐसी मोहब्बत हुई
उजाले आशा के हमें अब सताने लगे
मैं क्या हूँ मैं क्यूं हूँ ,यही ढूँढते
आईने से भी अब हम लजाने लगे
ग़मों की स्याही आँखों में फैली
"कजरारी" तबसे ही हम कहाने लगे
------------------------------------------------पारुल'पंखुरी'

7 comments:

  1. बहुत उम्दा पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर और नुकीली रचना 'कजरारी' का जिस तरह से रचना में प्रयोग किया गया है वो बहुत ही सुंदर है साथ ही अनूठा भी ......

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ! बेहतरीन ...

    नई रचना : सुधि नहि आवत.( विरह गीत )

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति !
    नई पोस्ट साधू या शैतान
    latest post कानून और दंड

    ReplyDelete
  6. मन की पीड़ा किसी को दिखती नहीं ... पीनी होती है अंदर अंदर ही ...
    भापूर्ण अभिव्यक्ति है ...

    ReplyDelete
  7. अदभूत
    चीख ! तुम मेरे हो ! मन ! कजरारी

    भाव रस लिए हुए हैं रचनाएँ बहुत ही खूब

    ReplyDelete

मित्रो ....मेरी रचनाओं एवं विचारो पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दे ... सकारात्मक टिपण्णी से जहा हौसला बढ़ जाता है और अच्छा करने का ..वही नकारात्मक टिपण्णी से अपने को सुधारने के मौके मिल जाते हैं ..आपकी राय आपके विचारों का तहे दिल से मेरे ब्लॉग पर स्वागत है :-) खूब बातें कीजिये क्युकी "बात करने से ही बात बनती है "

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...