पंखुरी के ब्लॉग पे आपका स्वागत है..

जिंदगी का हर दिन ईश्वर की डायरी का एक पन्ना है..तरह-तरह के रंग बिखरते हैं इसपे..कभी लाल..पीले..हरे तो कभी काले सफ़ेद...और हर रंग से बन जाती है कविता..कभी खुशियों से झिलमिलाती है कविता ..कभी उमंगो से लहलहाती है..तो कभी उदासी और खालीपन के सारे किस्से बयां कर देती है कविता.. ..हाँ कविता.--मेरे एहसास और जज्बात की कहानी..तो मेरी जिंदगी के हर रंग से रूबरू होने के लिए पढ़ लीजिये ये पंखुरी की "ओस की बूँद"

मेरी कवितायें पसंद आई तो मुझसे जुड़िये

Tuesday, 26 March 2013

पिया बिना .......कैसी होली



कैसे मनाऊ मै होली पिया तेरे बिना...
ना चढ़ी हाथो में लाली...लगा के भी हिना...
फीके - फीके लगे मुझे रंग और गुलाल...
हर पल तरसे अँखियाँ..रहे तेरा ख्याल...
रंग लाल हो पीला..हरा या नीला..
ना भाये कोई रंग मुझे ..ना ये मौसम रंगीला...
कैसे मनाऊ मै होली पिया तेरे बिना...
तुम साथ होते हो तो रंग मुझे बहुत लुभाते  हैं...
मन में उमंग ..चेहरे पे ख़ुशी ले आते हैं..
अब तुम नहीं हो तो मैंने ये जाना...
वो सब रंग तो तुझे देख के मेरे चेहरे पे आते हैं ...
तेरे देखने से जब चेहरा मेरा..गुलाबी हो जाता है...
वो रंग तेरे साथ का मुझे सबसे ज्यादा भाता है..
अब जो तुम नहीं हो..तो धुंधलका सा है छा रहा...
लाल..हरा गुलाबी..कोई रंग मेरे मन को नहीं लुभा रहा...
रंगीला ये मौसम दिल को और भी तरसा रहा...
के आ जाओ ये विरह का मौसम नहीं सहा जा रहा...
दिल में रंगों का इन्द्रधनुष है नहीं खिला...
कैसे मनाऊ  मै होली पिया तेरे बिना...
कैसे मनाऊ मै..होली...
------------------------------पारुल'पंखुरी'

13 comments:

  1. होली की शुभकामनाएं..:-D

    ReplyDelete
  2. पिया बिन होली फीकी,होली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  3. सच बात । विरह वेदना का सुन्दर चित्रण ।
    होली की हार्दिक शुभकामनायें ।

    ReplyDelete

  4. बहुत सुन्दर ,होली की शुभकामनाएं
    latest post धर्म क्या है ?

    ReplyDelete
  5. साजन मोरे है नही रंग न मोको भाय,,,,
    बहुत उम्दा सराहनीय रचना,,
    होली की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाए
    Recent post : होली में.

    ReplyDelete
  6. श्रृंगार रस और भक्ति रस में डूबी बहुत ही सुन्दर कविता | पढ़कर बहुत आनंद आया पारुल | ऐसी ही सुन्दर सुन्दर रचनाएँ लिखती रहें आप और हमें पढने का मौका देती रहें | आपको और समस्त परिवार जन को मेरी ओर से होली की हार्दिक शुभकामनायें | आभार

    ReplyDelete
  7. तुम बिन जीवन कैसे बीता...पूछो मेरे दिल से...
    सच! किसी एक रंग में ही हम सारे ही रंग देख लेते हैं....
    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति! दिल को छू गयी...

    "आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनाएँ!" :-)

    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  8. बहुत ही बढ़िया

    होली का पर्व आपको सपरिवार शुभ और मंगलमय हो!

    सादर

    ReplyDelete
  9. होली की शुभकामनाएं...सुन्दर पंक्तियां

    ReplyDelete
  10. waah bahut sunder rachna

    आपको और आपके परिवार को
    होली की रंग भरी शुभकामनायें

    ReplyDelete
  11. उन बिन रंग न भाएँ.....शुभ होली

    ReplyDelete
  12. प्रेम ओर विछोह के रंग में रंगी ... लाजवाब रचना ...
    आपको होली की बधाई ...

    ReplyDelete
  13. virah vedna ki marmik abhivyakti..mujhe apne hi ek sher yaad aa gaya.
    "Mere mahboob ki adaa bhi chaand jaisi hai,
    had-e-nigaah men rah kar bhi door rahata hai."
    bahut bahut badhaai aapko

    ReplyDelete

मित्रो ....मेरी रचनाओं एवं विचारो पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दे ... सकारात्मक टिपण्णी से जहा हौसला बढ़ जाता है और अच्छा करने का ..वही नकारात्मक टिपण्णी से अपने को सुधारने के मौके मिल जाते हैं ..आपकी राय आपके विचारों का तहे दिल से मेरे ब्लॉग पर स्वागत है :-) खूब बातें कीजिये क्युकी "बात करने से ही बात बनती है "

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...