पंखुरी के ब्लॉग पे आपका स्वागत है..

जिंदगी का हर दिन ईश्वर की डायरी का एक पन्ना है..तरह-तरह के रंग बिखरते हैं इसपे..कभी लाल..पीले..हरे तो कभी काले सफ़ेद...और हर रंग से बन जाती है कविता..कभी खुशियों से झिलमिलाती है कविता ..कभी उमंगो से लहलहाती है..तो कभी उदासी और खालीपन के सारे किस्से बयां कर देती है कविता.. ..हाँ कविता.--मेरे एहसास और जज्बात की कहानी..तो मेरी जिंदगी के हर रंग से रूबरू होने के लिए पढ़ लीजिये ये पंखुरी की "ओस की बूँद"

मेरी कवितायें पसंद आई तो मुझसे जुड़िये

Wednesday, 26 February 2014

कितने दिलकश होते हैं वो













कितने दिलकश होते हैं वो
उडी नींदों भरी रातें और बेचैनी भरे रंगीले दिन
नजरो से नजरो की मुलाकातों भरे नशीले दिन
खामोशियों में भी बेइंतहा बातों भरे सजीले दिन
धडकनों का एहसास दिलाते गुदगुदाते रसीले दिन

कितने दिलकश होते हैं वो ....
खुद से हरदम पूछे मासूम सवालातो भरे हंसाते दिन
तनहाइयों में रहने का बहाना बनाते गुनगुनाते दिन
कुछ अजीब सी उलझनों में उलझाते बलखाते दिन
बला की ख़ूबसूरती आईने में दिखाते इतराते दिन

कितने दिलकश होते हैं वो …
दिल की बात होंठो तक आने को कसमसाते दिन
इकरार और इजहार से पहले के टिमटिमाते दिन
मुहब्बत उसको भी है ये सोच के सकुचाते शरमाते दिन
मुहब्बत मुझको भी है ये सोच के लहलहाते मुस्कुराते दिन

-------------पारुल 'पंखुरी'

picture courtesy--via google (abstract.desktopnexus.com)

13 comments:

  1. बहुत खूब,सुंदर सृजन ...! पंखुरी जी...

    RECENT POST - फागुन की शाम.

    ReplyDelete
  2. वाह....
    दिलकश नज़्म....

    अनु

    ReplyDelete
  3. Waqai.. pankhuri di acha bayan kia Dilkashi ko..!!

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सरस मनोरम कविता.. विभिन्न प्रकार से प्रेम रस में सराबोर दिवसों की ऐसी चर्चा तो किसी कविता में ही संभव है .. बहुत उम्दा अभिव्यक्ति.. हार्दिक बधाई ...

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर प्रेम गीत ......भावभीनी अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  6. vaah...........ati sundar.............

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर प्रस्तुति.
    इस पोस्ट की चर्चा, शनिवार, दिनांक :- 01/03/2014 को "सवालों से गुजरना जानते हैं" : चर्चा मंच : चर्चा अंक : 1538 पर.

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब... सुंदर भावाभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  9. खूबसूरत से दिलकश वो दिन ... भावपूर्ण रचना है ...

    ReplyDelete

मित्रो ....मेरी रचनाओं एवं विचारो पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दे ... सकारात्मक टिपण्णी से जहा हौसला बढ़ जाता है और अच्छा करने का ..वही नकारात्मक टिपण्णी से अपने को सुधारने के मौके मिल जाते हैं ..आपकी राय आपके विचारों का तहे दिल से मेरे ब्लॉग पर स्वागत है :-) खूब बातें कीजिये क्युकी "बात करने से ही बात बनती है "

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...