पंखुरी के ब्लॉग पे आपका स्वागत है..

जिंदगी का हर दिन ईश्वर की डायरी का एक पन्ना है..तरह-तरह के रंग बिखरते हैं इसपे..कभी लाल..पीले..हरे तो कभी काले सफ़ेद...और हर रंग से बन जाती है कविता..कभी खुशियों से झिलमिलाती है कविता ..कभी उमंगो से लहलहाती है..तो कभी उदासी और खालीपन के सारे किस्से बयां कर देती है कविता.. ..हाँ कविता.--मेरे एहसास और जज्बात की कहानी..तो मेरी जिंदगी के हर रंग से रूबरू होने के लिए पढ़ लीजिये ये पंखुरी की "ओस की बूँद"

मेरी कवितायें पसंद आई तो मुझसे जुड़िये

Wednesday, 27 January 2016

शहीद की चिट्ठी

गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर प्रकाशित मेरी रचना "शहीद की चिट्ठी" उन सभी परिवारों को मेरा नमन है जिन्होंने अपने बेटों को देश की खातिर खो दिया । उन सबको दिल से सलाम ।
जय हिन्द

~~~पारुल'पंखुरी'




















शहीद की चिट्ठी
माँ,
कल छब्बीस जनवरी है ;मुझे गए हुए भी छब्बीस हफ्ते हो चुके हैं मगर तेरे आँसुओं की नदी अभी तक सूखी नहीं ये देख कर मै बेचैन हो जाता हूँ माँ |
   मुझे निवाला खिलाये बिना कभी खाना नहीं खाया तूने मालूम है अब वो निवाले कैसे काँटों से चुभते हैं तुझे और मौन होकर आंसुओं के साथ उन्हें भी निगल लेती है तू | सबसे छुपा सकती है तू मगर मुझसे नहीं ,रात को लेटे लेटे जिस आँचल से तू अपने आँसू पोंछती है उसी आँचल से मै अपना सर ढक लेता हूँ जो मुझे भीगा भीगा महसूस होता है, फिर मै तेरे चरणों में सिर झुकाता हूँ और तेरे सीने से लगकर लेट जाता हूँ मगर मै तेरे आँसू क्यूँ नहीं पोंछ पाता माँ  !
  सुबह जब अनजाने में तू मेरा नाम पुकारती है मै बहुत खुश हो जाता हूँ मगर तू मेरी कमीज को सीने से लगाये सुबक सुबक के रोने लगती है | धरती माँ का कर्ज चुकाते चुकाते तेरी ममता को तरसता छोड़ गया मै माँ मुझे माफ़ कर देना |
     तूने ही मुझे शिक्षा दी थी की “सबसे पहले धरती माँ उसके बाद तेरी माँ” | मै तो एक झटके में चला गया माँ मगर तू  हर दिन हर पल मेरी ममता में तड़फ रही है मर रही है  | तू जानती थी की तू मेरे बिना नहीं रह पाएगी फिर भी भारत माता के लिए मुझे कुर्बान कर दिया; माँ, तुझे प्रणाम है |
    जब तक तेरे जैसी माएं भारत की धरती पर हैं दुश्मन इसका बाल भी बांका नहीं कर सकता | कल मुझे जो सम्मान मिलने वाला है उसकी सच्ची हकदार तू है माँ इस देश की सच्ची सैनिक तेरे जैसी माएं हैं | उन सभी माँओं को सलाम |
                          जय हिन्द
                                 तेरा शहीद बेटा
(जो और सौ बार भारत माँ पर शहीद होने को तैयार है )



रचना-- पारुल'पंखुरी'
२५ जनवरी २०१६ 

6 comments:

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन ब्लॉग बुलेटिन - भारत भूषण जी की पुण्यतिथि में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार मेरी रचना को शामिल करने के लिय्हे मै अवश्य पहुंचूंगी

      Delete
  2. सुन्दर और भावनात्मक रचना। सादर ... अभिनन्दन।।

    नई कड़ियाँ :- प्रेरक प्रसंग ~ नेताजी सुभाष चन्द्र बोस और दिल का रिश्ता

    ReplyDelete
  3. आपका ब्लॉग देखा अच्छा लगा .....

    ReplyDelete
  4. भावनात्मक ... पोस्ट ... दिल भर आता है ...

    ReplyDelete

मित्रो ....मेरी रचनाओं एवं विचारो पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दे ... सकारात्मक टिपण्णी से जहा हौसला बढ़ जाता है और अच्छा करने का ..वही नकारात्मक टिपण्णी से अपने को सुधारने के मौके मिल जाते हैं ..आपकी राय आपके विचारों का तहे दिल से मेरे ब्लॉग पर स्वागत है :-) खूब बातें कीजिये क्युकी "बात करने से ही बात बनती है "

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...