पंखुरी के ब्लॉग पे आपका स्वागत है..

जिंदगी का हर दिन ईश्वर की डायरी का एक पन्ना है..तरह-तरह के रंग बिखरते हैं इसपे..कभी लाल..पीले..हरे तो कभी काले सफ़ेद...और हर रंग से बन जाती है कविता..कभी खुशियों से झिलमिलाती है कविता ..कभी उमंगो से लहलहाती है..तो कभी उदासी और खालीपन के सारे किस्से बयां कर देती है कविता.. ..हाँ कविता.--मेरे एहसास और जज्बात की कहानी..तो मेरी जिंदगी के हर रंग से रूबरू होने के लिए पढ़ लीजिये ये पंखुरी की "ओस की बूँद"

मेरी कवितायें पसंद आई तो मुझसे जुड़िये

Monday, 1 July 2013

मन की बात ...


सौ तरह की बातें ...
हजारो मचल रहे जज्बात ...
चाहती हूँ शब्दों में बहाना ...
इन्द्रधनुषी स्याही में डुबोकर ..
मन की हर एक बात ....
सोच रही हूँ मन के पंख होते तो ...
उन पंखो को स्याही में डुबोकर
मै खुद ही कागज़ पर बिछ जाती ..
मेरे पंखो के निशान जब रंगबिरंगी स्याही में डूबते
और कागज़ पर उड़ान भरते
तो वही मेरे दिल का सार हाल बयां कर पाते
वही मेरे दिल का हाल बयां कर पाते...

-------------पारुल 'पंखुरी '

20 comments:

  1. खूबसूरत जज़्बात... बधाई आपको

    ReplyDelete
  2. सुंदर सृजन,मन के जज्बातों उम्दा प्रस्तुति,,,

    RECENT POST: जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  3. शब्दों से ज्यादा कौन बयाँ कर सकता है मन के जज्बातों को ...
    लाजवाब रचना ...

    ReplyDelete
  4. बहुत ही खूबसूरती से रखे जज़्बात ..... बहुत-बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  5. वाह , शब्दों का संयोजन बहुत सुंदर, दिल की बात कहती रचना, शुभकामनाये , यहाँ भी पधारे फुर्सत के क्षणों में

    http://shoryamalik.blogspot.in/

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना....

    ReplyDelete
  7. शब्दों की बहती सरिता में बहने दीजिये जज्बात को
    मन की स्याही में डुबोकर कह दीजिये दिल की हर बात को
    शब्दों को पंख लगाकर, उड़ने दीजिये आकाश में उन्मुक्त
    खुल कर बहकने दीजिये अनकहे, अनछूए जज्बात को

    बहुत खूबसूरत ...... :)

    ReplyDelete
  8. .. बढ़िया अभिव्यक्ति !!

    मैंने तो अपनी रचना की, हर पंक्ति तुम्हारे नाम लिखी
    क्या जाने अर्थ निकालेगी, इन छंदों का, दुनिया सारी ! -सतीश सक्सेना

    ReplyDelete
  9. चाहत यही कि लफ्जों के बहाने
    शबे-तार कि स्याही में डुबोकर
    ख़िलकत में इक धनक लिख दूँ.....

    खिलकत = प्रकृति, दुनिया
    धनक = इन्द्रधनुष

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर ..कितना कुछ कह दिया ... शब्दों में.
    फुर्सत मिले तो शब्दों की मुस्कराहट पर......Recent Post बड़ी बिल्डिंग के बड़े लोग :) पर ज़रूर आईये

    ReplyDelete
  11. वाह ! क्या बात है P.goel जी ,आपकी लेखनी ने आपके दिल का हाल बया किया है ।
    वक्त मिलने पर आप मेरी काव्यालय (www.bnjraj08.com ) जरुर पढ़े ।आपके प्रोत्साहन ,प्रसंशा और हो सके तो आलोचना की जरुरत है।हिंदी के इस युवा बेटे को ..........

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना !!

    ReplyDelete
  13. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  14. वाह.....
    बहुत सुन्दर!!!!

    अनु

    ReplyDelete
  15. पर कितना कुछ भी कह देने के बाद भी अल्फाज़ जज़्बातों के लिबास नहीं बन पाते....सुंदर प्रस्तुति।।

    ReplyDelete
  16. aap sabhi ka bahut bahut shukriya :-)

    ReplyDelete
  17. बहुत उम्दा प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  18. बहुत अच्छी रचना !!!

    ReplyDelete

मित्रो ....मेरी रचनाओं एवं विचारो पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दे ... सकारात्मक टिपण्णी से जहा हौसला बढ़ जाता है और अच्छा करने का ..वही नकारात्मक टिपण्णी से अपने को सुधारने के मौके मिल जाते हैं ..आपकी राय आपके विचारों का तहे दिल से मेरे ब्लॉग पर स्वागत है :-) खूब बातें कीजिये क्युकी "बात करने से ही बात बनती है "

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...